रिवर लाइट लोहे (स्टील शीट) के साथ क्यों सटा हुआ है?
लोहा (स्टील शीट) फ्राइंग पैन के लिए क्यों अच्छा है?

iron_a

भोजन का सर्वश्रेष्ठ स्वाद पाने के लिए उसे लगभग 170–180°C के उच्च तापमान पर पकाने की आवश्यकता होती है। लोहा एक ऐसा पदार्थ है जो उच्च ताप प्रतिरोधक होता है, और ताप संचयन एवं निस्तारण के लिए भी सर्वश्रेष्ठ उपयुक्त होता है।

दूसरे शब्दों में, यह न केवल अधिक मात्रा में ताप संचय कर सकता है, बल्कि अधिकतर सामग्रियों में से उत्कृष्टता निकालने के लिए यह बिलकुल सही मात्रा में ताप निस्तारण भी करता है। यह विशेषताएं भोजन को उच्च तापमान पर जल्दी पकने में सक्षम बनाती हैं, वह भी बिना किसी स्वाद की हानि के। कई चाइनीज़ व्यंजन, सामग्रियों को स्टियर-फ्राइ करके बलपूर्वक धातु की कलछी से कड़ाही पर प्रहार कर बनाए जाते हैं, जो केवल मज़बूत लोहे के साथ ही संभव है। और तो और, जलने के बाद भी पैन का नवीकरण कर उसे मूल अवस्था में रखना आसान है।

और सबसे महानतम लाभ इनके अंदर यह है, जितना आप इन्हें उपयोग में लाएंगे, जितना तेल एवं धातु आपस में मिलेंगे, ये उतना ही अच्छा काम करेंगे। न कि टेफ्लॉन की तरह, जो खराब हालात में कुछ महीने तथा हालात अच्छे होने पर कुछ साल के बाद खराब हो जाते हैं, एक अच्छा लोहे का पैन, जिसका ध्यान उचित रूप से रखा गया हो, उसे माता-पिता से बच्चों और पोते पोतियों तक या उससे भी आगे, कई दशकों तक बढ़ाया जा सकता है। ये कोई प्रायोज्य उपकरण नहीं होते जिन्हें टूटने के बाद बदला जा सके। ये उपकरण संभाल कर रखने के लिए होते हैं, इन्हें अपनी पहली खरीद से और भी बेहतर रूप दिया जा सकता है।

रिवर लाइट के फ्राइ पैन,
और रेडियोधर्मी तत्वों पर हमारी अवस्थिति

सर्वप्रथम, हम एक बात साफ कर देना चाहते हैं:
रिवर लाइट, कोल्ड-रोल्ड शीट का उपयोग न करता है, और न कभी करेगा, जिसके अंदर रेडियोधर्मी तत्व (खासतौर पर इसलिए, क्योंकि जापानी स्टील शीट में इनका बिलकुल विद्यमान न होना) पाए जाते हैं।

मार्च 11, 2011 में, एक महान पूर्वी जापान भूकम्प और सुनामी के कारण, फुकुशिमा पॉवर प्लांट में घातक दुर्घटना हुई थी। तभी से रेडिएशन एवं रेडियोधर्मी तत्वों के डर ने पूरे जापान को घेर रखा है। उस दुर्घटना के बारे में, हमारे पास प्रश्न आते हैं जिनमें पूछा जाता है, क्या हमारी “स्टील शीट” के अंदर, जिनका उपयोग हम अपने फ्राइंग पैन के लिए करते हैं, रेडियोधर्मी तत्व समाविष्ट हैं। बावजूद इसके कि हम अपना उत्तर न में देते हैं, कुछ उपभोक्ता असंतुष्ट ही रहते हैं। इसलिए, हम इस अवसर को लेना चाहते हैं और दिखाना चाहते हैं कि क्यों हम इतने आश्वस्त हैं कि हमारे फ्राइंग पैन ठीक हैं।

रिवर लाइट के मौजूदा सीईओ का जन्म, द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हिरोशिमा में हुआ था, उस स्थल पर, जो हिरोशिमा शांति स्मारक से 250 मीटर से अधिक की दूरी पर भी नहीं है, और उन्होंने रेडिएशन और रेडियोधर्मी तत्वों से अधिक और कुछ नहीं पढ़ा। और हमारे सभी कर्मचारी, न केवल अपने सीईओ से लेक्चर लेना जारी रखते हैं, बल्कि प्रत्येक व्यक्ति रेडिएशन और रेडियोधर्मी तत्वों के बुनियादी तत्वों को लगातार सीखने में जुटे रहते हैं । जब से फुकुशिमा की घटना घटी है, कर्मचारी हमारे स्टील शीट उत्पादकों के बारे में पूछताछ करते रहते हैं।

रिवर लाइट में, हम अपने फ्राइंग पैन के लिए केवल निप्पॉन स्टील और सुमितोमो मेटल कार्पोरेशन द्वारा निर्मित कोल्ड-रोल्ड स्टील शीट एसपीसीसी का उपयोग करते हैं। जब जापानी स्टील शीट उत्पादक स्टील शीटें बनाते हैं, वे कच्चे माल के लिए लौह अयस्क एवं स्क्रैप (लोहे के टुकड़े) का उपयोग करते हैं। लौह अयस्क आस्ट्रेलिया, ब्राज़ील एवं अन्य देशों से आयात किया जाता है, तो इसमें कोई परेशानी नहीं है। परेशानी इस बात की होती है कि स्क्रैप की प्राप्ति जापान से की गई है या नहीं, और उसकी सतह पर रेडियोधर्मी तत्व होने की संभावना है या नहीं। इसके जवाब में जापानी स्टील शीट उत्पादक उनके सारे स्क्रैप को टेस्ट करते हैं जिससे वे पूरे निश्चय के साथ यह कहने में सक्षम हो जाते हैं कि दिए गए स्क्रैप के किसी भी टुकड़े में रेडियोधर्मी तत्व है या नहीं। बेशक, कोई भी स्क्रैप जिसमें रेडियोधर्मी तत्व पाया जाएगा, उसका उपयोग स्टील शीट के उत्पादन में नहीं होगा। यही वह कठोरता है जिसके साथ जापानी स्टील शीट उत्पादक अपनी कला को देखते हैं। इसलिए, हम दृढ़ता के साथ कह सकते हैं कि उपर्युक्त कोल्ड-रोल्ड स्टील शीट एसपीसीसी, जिसका उपयोग हम अपने फ्राइंग पैन बनाने में करते हैं, बिल्कुल भी रेडियोधर्मी नहीं है। (इस बात की पुष्टि हमने उपर्युक्त जापानी स्टील शीट उत्पादकों से भी की है और उनकी तरफ से हमें स्पष्ट एवं निश्चित उत्तर मिला है, इसलिए हम अपने उत्पादों में उनकी सामग्री उपयोग में लाना जारी रख रहे हैं)।